Sankhya Sastra

Chinese Horoscope

Darakaraka in Astrology

Numerology Calculators

Astrology Specials

🪶🪶The most popular shape to wear Red Coral is triangular shape. It is known as the Lakshmi Moonga, also referred to as Tikona Moonga.If an individual has Zodiac signs Taurus, Aquarius, Libra, Gemini, or Virgo should not wear the original moonga stone as embracing red coral proves to be dreadful and bring a negative impact in the life of a wearer..

Red Coral Stone Benefits

For one, it is said to promote good luck and fortune. Additionally, it is also believed to ward off evil spirits and protect the wearer from harm. Additionally, red coral is also associated with passion, energy, and strength, making it a perfect accessory for anyone looking to radiate power and confidence./p>

Astrological Wonders of Red Coral (Moonga)

Red Coral, known as Moonga in Vedic astrology, is a captivating gemstone with vibrant red hues and powerful astrological properties. Let's delve into its origin, healing attributes, and guidelines for wearing this remarkable gem.

Origin of Red Coral Stone

Red Corals are primarily sourced from regions like the Mediterranean Sea, especially off the coast of Italy and Sardinia. Admired for their deep red color, these gemstones have been revered for centuries across different cultures for their astrological significance.

Who Should Wear Red Coral Stone?

Red Coral is particularly beneficial for individuals with a strong influence of Mars in their birth charts. Ascendants like Aries and Scorpio are especially suited to harness the positive energies of this gemstone for vitality, courage, and protection.

  • Check Scorpio Compability
  • How to Identify a Real Red Coral at Home

    Identifying a genuine Red Coral involves examining its color consistency, surface texture, and natural imperfections. A true Red Coral exhibits a uniform deep red color without visible inclusions. Consult a certified gemologist for a thorough examination or look for certifications when purchasing to ensure authenticity.

  • Don't forget to check Jyotishgher's Blog
  • Ruby

    मूंगा रत्‍न – Moonga Ratna

    🐾मूंगा किस धातु में पहने – Moonga kis dhatu me pahne मंगल के रत्‍न मूंगा को सोने या तांबे की धातु में पहनना चाहिए क्‍योंकि ये दोनों ही मंगल के धातु हैं। मूंगा रत्‍न की अंगूठी को दाएं हाथ की अनामिका उंगली में पहना जाता है। मूंगा रत्न धारण विधि – Moonga ratna dharan vidhi in Hhindi मूंगा की अंगूठी या लॉकेट तांबे, सोने या पंचधातु में पहनना चाहिए। शुक्‍ल पक्ष के मंगलवार की सुबह उठकर स्‍नान करें और घर के पूजन स्‍थल में साफ आसन पर बैठ जाएं। अब मूंगा रत्‍न को कम से कम 10 मिनट के लिए गंगाजल/गाय के दूध/ताजे जल में भिगो कर रख दें। इसके बाद 108 बार ‘ऊं मंगलाय नम:’ मंत्र का जाप करें। धूप जलाएं और सूर्य की ओर मुख करके इस रत्‍न को धारण कर लें। मूंगा रत्न किसे पहनना चाहिए – जन्‍मकुंडली में ग्रहों की निम्‍न स्थिति में मंगल का मूंगा रत्‍न पहना जा सकता है: मंगल राहू या शनि के साथ किसी भाव में बैठा हो। जब मंगल कुंडली के प्रथम भाव में स्थि‍त हो। मंगल के चौथे भाव में होने पर, इससे भाई-बहनों के बीच मतभेद रहते हैं। यदि मंगल सातवें और दसवें भाव में हो, इसका जीवनसाथी को नुकसान होता है। अगर द्वितीय भाव के नक्षत्र स्वामी में उप स्वामी अपने 11वें, 9वें, चौथे, पांचवे या बारहवें घर में मंगल स्थित हो। यदि नवम भाव का नक्षत्र स्‍वामी मंगल चौथे भाव में प्रवेश करे या दशम भाव का नक्षत्र स्‍वामी मंगल पांचवे या ग्‍यारहवे भाव में प्रवेश करे। जब मंगल की सातवे, दसवे और ग्‍यारहवें भाव पर दृष्टि हो, तब मूंगा धारण करना अत्‍यंत लाभकारी सिद्ध होता है। अगर मंगल छठे, अष्‍टम या बारहवें घर में हो एवं मंगल की दृष्टि सूर्य पर हो। यदि कुंडली में मंगल चंद्रमा के साथ बैठा हो तो इस स्थिति में मूंगा पहनने से आर्थिक स्थिति में सुधार लाने में मदद मिलती है। मंगल की छठे और अष्‍टम भाव पर दृष्टि हो या मंगल मार्गी या वक्री चाल में हो।

    मूंगा रत्‍न -रत्न

    🐾लाल रंग का मूंगा रत्न मंगल ग्रह के दोषों को शांत करने के साथ-साथ कर्ज से मुक्ति दिलाता है और व्‍यक्‍ति को अपने मार्ग में आने वाली सभी परेशानियों और अड़चनों को दूर करने की शक्‍ति मिलती है। यह चमत्कारिक रत्न कुंडली के मांगलिक दोष को खत्म करता है। मूंगा बहुत ही शक्‍तिशाली, सुंदर और आकर्षक रत्‍न है। इस स्‍टोन को पहनने से व्‍यक्‍ति साहसी और शूरवीर बनता है एवं उसके आत्‍मविश्‍वास में वृद्धि होती है। वैदिक ज्‍योतिष में आक्रामक ग्रह मंगल के अशुभ प्रभावों को दूर करने और उसकी कृपा पाने के लिए मूंगा को पहना जाता है। मान्‍यता है कि यह स्‍टोन मंगल ग्रह को प्रसन्‍न करने में मदद करता है। मंगल युद्ध और ऊर्जा का कारक है। इस ग्रह का लाल रंग रक्‍त का प्रतीक माना जाता है। इसे अंगाकर और पृथ्‍वी के नज़दीक होने के कारण ‘पृथ्‍वी का पुत्र’ भी कहा जाता है। लाल मूंगा को रैड कोरल भी कहा जाता है। पिछले कई वर्षों से आभूषणों में इस रत्‍न का इस्‍तेमाल किया जा रहा है। यह रत्‍न समुद्र की गहराई में पाया जाता है और एक विशेष प्रकार के जंतु इस रत्‍न का निर्माण करते हैं। जिस वनस्‍पति से मूंगा उत्‍पन्‍न होता है उसकी लंबाई 2 से 3 फीट होती है। वनस्‍पति से निर्मित होने के कारण ही वनस्‍पति विज्ञान में भी कोरल का अध्‍ययन किया जाता है। समुद्र से बाहर हवा के संपर्क में आने पर यह कठोर हो जाता है। मूंगा रत्न पहनने के फायदे – Moonga stone benefits in Hindi मूंगा स्‍टोन परेशानियों और शत्रुओं का सामना करने की शक्‍ति प्रदान करता है। चूंकि, यह रत्‍न मंगल से जुड़ा है इसलिए इसे पहनने से व्‍यक्‍ति को अपने मार्ग में आने वाली सभी परेशानियों और अड़चनों को दूर करने की शक्‍ति मिलती है। यदि मंगल की अशुभ स्थिति के कारण किसी व्‍यक्‍ति में धैर्य की कमी है, गुस्‍सा ज्‍यादा आता है या परेशान रहता है तो उसे रैड कोरल पहनने से बहुत लाभ होगा। मूंगा को धारण करने का सबसे बड़ा लाभ यही है कि ये मंगल ग्रह से जुड़े मांगलिक दोष को दूर करने में मदद करता है। मांगलिक दोष के कारण व्‍यक्‍ति के विवाह में दिक्‍कतें आती हैं और उसका वैवाहिक जीवन भी सुख से वंचित रहता है। मूंगा स्‍टोन रिश्‍तों में प्रेम और आपसी समझ को बढ़ाता है। अगर आपकी कुंडली में मांगलिक दोष है तो आपको भी ज्‍योतिषाचार्य से कुंडली विश्‍लेषण करवाने के बाद मूंगा स्‍टोन पहनना चाहिए। काम-धंधे और व्‍यापार पर भी मूंगा का सीधा असर पड़ता है। इस स्‍टोन को पहनने से धारणकर्ता को काला जादू और बुरी नज़र से भी सुरक्षा मिलती है। अगर कोई व्‍यक्‍ति कर्ज में दबा हुआ है या आर्थिक तंगी से परेशान है तो उसे भी मंगल का मूंगा स्‍टोन पहनने से लाभ होगा। मूंगा में समाहित ऊर्जा कम समय में कर्ज से मुक्‍ति दिलाने में मदद कर सकता है। भारतीय ज्‍योतिष के अनुसार मूंगा ‘मांगल्‍य बालम’ को प्रदर्शित करता है। इससे वैवाहिक संबंधों में मजबूती आती है और जीवनसाथी की आयु लंबी होती है। इसे पहनने से महिलाओं के पति की दीर्घायु होती है। यदि किसी व्‍यक्‍ति को अपने जीवन में कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है तो उसे मूंगा पहनने से धैर्य एवं साहस की प्राप्‍ति होती है। इसे पहनने से जीवन में आने वाली मुश्किलों और परेशानियों का आत्‍मसम्‍मान के साथ सामना करने की शक्‍ति मिलती है। अगर आप लीडर बनना चाहते हैं या आपमें नेतृत्‍व करने के गुण की कमी है तो आपको मूंगा पहनने से लाभ होगा। मूंगा स्‍टोन के स्‍वास्‍थ्‍यवर्द्धक लाभ – Moonga stone health benefits in Hindi यदि किसी व्‍यक्‍ति को बहुत जल्‍दी थकान महसूस होने लगती है तो उसे मूंगा धारण करना चाहिए। यह स्‍टोन ऊर्जा प्रदान करता है। इस स्‍टोन में हीलिंग गुण भी हैं/ ये एक्‍ने, चेहरे पर दाग-धब्‍बे और त्‍वचा रोगों को रोकने में मदद करता है। इसके अलावा ये रक्‍त को शुद्ध कर चोट, घाव को ठीक करता है। मानसिक रूप से स्‍वस्‍थ रहने के लिए भी इस रत्‍न को पहना जा सकता है। ये डिप्रेशन को भी दूर करता है और मस्तिष्‍क को ऊर्जा देता है। यह रत्‍न गर्भपात, बुखार, बवासीर, नपुसंकता, टाइफस और छोटी माता आदि से बचाता है। बच्‍चों को यह स्‍टोन रिकेट्स और पेट दर्द जैसी बीमारियों से बचाता है। घुटनों से जुड़ी व्‍याधियां, आर्थराइटिस और रूमेटिज्‍म के इलाज में भी मूंगा मदद करता है। कितने रत्ती का मूंगा पहनना चाहिए – Kitne ratti ka moonga pehnana chahiye in Hindi पांच से छह कैरेट तक का मूंगा स्‍टोन पहनना चाहिए। मूंगा स्‍टोन पहनने के बाद 9 दिनों के अंदर अपना प्रभाव दिखाना शुरू कर देता है एवं इसका प्रभाव 3 साल तक रहता है। बेहतर परिणाम एवं लाभ के लिए जापानी और इटालियन कोरल पहनना फायदेमंद रहता है। आपको मूंगा रत्‍न कितने रत्ती का पहनना चाहिए, ये जानने का सबसे आसान तरीका है कि आप अपने वजन को देखें। मान लीजिए आपका वजन 60 कि.ग्रा है, तो आपको 6 रत्ती का मूंगा पहनने से लाभ होगा।


    Jyotishgher Astrology Amazon's Online Store

  • Download:Jyotishgher Android App for free dashboard
  • Consult Astrologers🚩
  • Consult for Vedic Reports
  • Benefits of Wearing Red Coral Stone

    Red Coral is celebrated for its diverse benefits. It is believed to boost physical strength, provide protection from malefic influences, and enhance courage. Wearing this gemstone is also associated with improving blood circulation and promoting vitality.

    Which Diseases Can Be Healed Wearing Red Coral?

    Red Coral is believed to have healing properties related to issues with the blood, bone marrow, and muscular system. It is thought to alleviate conditions like anemia and enhance overall well-being. However, gemstones should not replace medical treatment; they can be complementary.

    Which Ascendants Should Never Wear Red Coral?

    While Red Coral is associated with positive energies, it may not be suitable for ascendants ruled by malefic planets like Saturn and Venus. Consultation with an astrologer is crucial to ensure compatibility before considering Red Coral as a gemstone.

    Relief from Malefic Effects and Maha Dasha

    Individuals undergoing challenging Maha Dasha periods or experiencing malefic effects of Mars can find relief by wearing Red Coral. It is believed to balance the adverse impacts and bring about courage, protection, and enhanced vitality.

    When, Where, and How to Wear Red Coral

    The auspicious time to wear Red Coral is typically on a Tuesday during the ascending moon cycle. It is often worn on the ring finger of the right hand. Before wearing, immerse the stone in a mixture of milk and water for purification to enhance its astrological effects.Wear it on a Tuesday morning during Shukla Paksha (the waxing phase of the moon) on the ring finger of your right hand.Chant the "Om Mangal Namah" mantra while adorning the gemstone to invoke Mars' blessings.Maintain its vibrant energy by avoiding harsh chemicals and excessive sunlight.

    On Which Finger Red Coral Should Be Worn

    Red Coral is ideally worn on the ring finger, also known as the Sun finger, of the right hand. This finger is associated with the Sun, and wearing Red Coral on it is believed to channel Mars' energetic qualities for protection and vitality.

    Mantra for Wearing Red Coral

    While wearing Red Coral, recite the following mantra: "Om Kraam Kreem Kraum Sah Bhaumaya Namaha." Chanting this mantra during the process is thought to invoke the positive energies of Mars and enhance the astrological benefits of the Red Coral stone.

    Side Effects of Red Coral

    While Red Coral is generally considered safe, individuals with a weak Mars in their charts or incompatible ascendants may experience side effects. It's advisable to consult with an astrologer before wearing any gemstone to avoid adverse reactions.

    How to identify a real Red Coral?

    🍂Rub a coral against a mirror, a real gem will not produce any sound whereas an ersatz will produce a heavy sound. 🍂Slowly drop hydrochloric acid on this gemstone, it will not react but will start bubbling heavily whereas an imitation will not be able to do so. 🍂Take some cow's milk and leave the coral into it. If the colour of milk starts turning red or pink, then it is real otherwise it is fake. 🍂Drop the gem into blood, blood will thicken around it.

    Frequently Asked Questions about Red Coral (Moonga)

    Q: Can Red Coral be worn daily?
    A: While Red Coral is generally considered safe for daily wear, it's essential to give the gem some rest periodically to maintain its energy.

    Q: Can Red Coral be worn with other gemstones?
    A: Yes, Red Coral can be combined with other gemstones based on astrological recommendations. However, it's crucial to consult with an astrologer to ensure compatibility.

    Q: Does Red Coral have an impact on relationships?
    A: Red Coral is associated with enhancing courage and vitality, which may positively influence personal relationships. However, individual experiences can vary.

    Q: Can Red Coral be worn by anyone?
    A: While it is beneficial for certain ascendants, Red Coral should be worn after consulting with an astrologer to ensure compatibility with an individual's birth chart.

    Q: Is there a specific day to wear Red Coral?
    A: Tuesdays are considered auspicious for wearing Red Coral, especially during the ascending moon cycle.

    Q: Can Red Coral bring protection?
    A: Yes, Red Coral is associated with providing protection, courage, and vitality.

    Genuine Gemstone Certification from Jyotishgher's Partners

    Jyotishgher is providing you with a Genuine Gemstone Certification when you buy any gemstone through our website. This certification will be 100% authentic by our's dedicated labs and will certify that you have purchased 100% natural stone and no replica is being provided to you. Our gemstones have passed numerous quality checks in order to ensure its quality and durability. Gemstones are obtained through natural means, these are not synthesized into laboratory. These are processed in well equipped labs so that it can be given different shapes and sizes to be moulded into gold or silver or any metal as per the requirement. We have kept gemstone price very nominal and lowest in the market so that everyone can have a genuine gemstone with authentic certification.For free enquiry or order you can write us

  • Visit or Order us at: contact us
  • Download:Jyotishgher Android App for free dashboard