7-Jaimini Karakas

AmatyaKaraka

Karakamsa Lagna(कारकांश लग्न)

Upapada Lagna(उपपद लग्न)

Reach us Free

Jaimini Jyotish - Basic Concepts In Astrology

Jamini astrology

	 

Atmakaraka (आत्मकारक ग्रह)

🪶🪶

 

आत्मकारक या आत्मा ग्रह क्या है? आत्मा का अर्थ है आत्मा और कारक का अर्थ है कारक। आत्माकारक आत्मा की इच्छा का कारक है। वैदिक दर्शन के अनुसार एक आत्मा का पुनर्जन्म होता है क्योंकि उसकी अधूरी इच्छाएँ होती हैं जो पिछले जन्मों में अधूरी रह जाती थीं और उन्हें संतुष्ट करने का एक और अवसर पाने के लिए वह फिर से जन्म लेती है। ये इच्छाएँ क्या हैं? क्या वे पूरे होंगे या आप उनसे संघर्ष करेंगे? यह आत्मकारक ग्रह द्वारा प्रकट किया गया है। आत्मकारक की गणना कैसे की जाती है? आठ ग्रहों में से एक (सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध, बृहस्पति, शनि और राहु) जन्म कुंडली में इसकी डिग्री के आधार पर आपका आत्मकारक हो सकता है। जो ग्रह राशियों को अनदेखा करते हुए उच्चतम डिग्री का होता है, उसे चर आत्मकारक माना जाता है। कुछ ज्योतिषी 7 कारक योजना का उपयोग करते हैं, राहु को बाहर रखा गया है। एक बार जब आप अपने आत्मकारक का पता लगा लेते हैं तो आप बहुत सी चीजें उजागर कर सकते हैं। आपके डी 9 (नवांश चार्ट) में आपके आत्मकारक ग्रह की स्थिति बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है और इसे "करकांश" कहा जाता है। कारकांश से नौवां भाव आपकी आध्यात्मिक प्रगति के बारे में बताएगा। कारकांश से पंचम भाव में स्थित ग्रह आपको आपकी अंतर्निहित प्रतिभा और जीवन पथ के बारे में बताएंगे। उदाहरण के लिए, लग्न के रूप में कारकांश राशि से 10 वां घर आपको अपने करियर की नियति दिखाएगा।


  • Download:Jyotishgher Android App for free dashboard
  • Consult Astrologers🚩
  • Video Consultation🍃
  • Video (Kundli Milan)🍃
  • Phone (30 min)🍃
  • Do you have Questions? Ask an Astrologer now

    	 

    AmatyaKaraka(अमात्यकारक)

    🪶🪶

     

    जन्म कुण्डली में राहु को छोड़कर दूसरे उच्चतम अंश वाले ग्रह को अमात्यकारक कहा जाता है। जैमिनी ज्योतिष में कारक एक विशिष्ट विशेषता है। अमात्य का वास्तविक अर्थ राजा का साथी या अनुयायी है। आधुनिक काल में इसके व्यापक अर्थ दिये गये हैं। राजनीतिक क्षेत्र में आप उसे मंत्री कह सकते हैं, सामान्य उपयोग में आप जातक के वित्त या सामाजिक जीवन के पहलुओं को प्राप्त कर सकते हैं। अमात्यकारक का महत्व अमात्यकारक पदानुक्रम में राजा का अगला सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति है। यह आत्मकारक के बाद आता है। आत्मकारक राजा है जबकि अमात्यकारक सलाहकार है। राजा के जीवन में सलाहकार की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है। वास्तव में ज्योतिषीय रूप से कोई भी कह सकता है कि पहले घर का स्वामी आत्मकारक है और अमात्यकारक की तुलना दूसरे भगवान या यहां तक कि 10 वें भगवान से की जा सकती है क्योंकि दोनों ही वित्त और कार्रवाई के लिए अत्यधिक मूल्यवान हैं। अमात्यकारक की कार्यप्रणाली को आंकने के लिए हम इसे दूसरे, पांचवें, नौवें और दसवें भाव के कारक के रूप में जोड़ेंगे। उपरोक्त सभी घर क्रमशः परिवार, धन, शिक्षा, विदेश यात्रा और करियर के अवसरों के महत्व को दर्शाते हैं। यदि आप बारीकी से विश्लेषण करें, तो आत्मकारक आत्मा है और इस जन्म में उचित कार्य करने के लिए अमात्यकारक पर निर्भर है। यदि अमात्यकारक आत्मकारक के साथ अच्छा संबंध बनाता है तो जातक अच्छी गुणवत्ता का जीवन व्यतीत करेगा और जीवन भर कम कठिनाइयों का सामना करेगा।


  • Download:Jyotishgher Android App for free dashboard
  • Consult Astrologers🚩
  • Video Consultation🍃
  • Video (Kundli Milan)🍃
  • Phone (30 min)🍃
  • Do you have Questions? Ask an Astrologer now

    	 

    Bhatrikaraka (भत्रिककारक)

    🪶🪶

     

    जैमिनी ज्योतिष कुण्डली (Jaimini Astrology Kundli) में आमात्यकारक ग्रह के बाद जिस ग्रह की डिग्री अधिक होती है उसे भ्रातृ कारक (Bhratrukarak) ग्रह माना जाता है. इसे व्यक्ति के भाई बहनों के कारक ग्रह के रूप में देखा जाता है. सभी ग्रहों में मंगल को भाई-बहनों का स्वामी ग्रह माना जाता है यही कारण है कि प्राकृतिक भ्रातृ कारक ग्रह के रूप में मंगल को स्वीकार किया जाता है.


  • Download:Jyotishgher Android App for free dashboard
  • Consult Astrologers🚩
  • Video Consultation🍃
  • Video (Kundli Milan)🍃
  • Phone (30 min)🍃
  • Do you have Questions? Ask an Astrologer now

    	 

    Matrukarak(मातृ कारक)

    🪶🪶

     

    भ्रातृ कारक से कम डिग्री वाले ग्रह को मातृ कारक ग्रह के रूप में मान्यता प्राप्त है. यह माता का स्वामी ग्रह माना जाता है. इसका प्राकृतिक ग्रह चन्द्रमा है. इस कारक के द्वारा जातक की माता के विषय में समझा जा सकता है. माता का सुख और माता की स्थिति के विषय में जाना जा सकता है. जन्म कुण्डली में मातृकारक ग्रह को चौथे भाव का स्थान प्राप्त है. इस भाव से जातक का आत्मिक सुख उसकी अपनी फैमली में स्थिति, शुरुआती शिक्षा जैसी चीजों का भी पता लगाया जा सकता है. यह भाव जातक के घर, वाहन, वस्त्र जैसी चीजों के सुख के बारे में भी बतात है. यह आपके भौतिक सुखों को दर्शाने वाला होता है और आप किस प्रकार स्वयं इसका कितना लाभ उठा पाते हैं इसकी जानकारी हमे मातृकारक से होती है.


  • Download:Jyotishgher Android App for free dashboard
  • Consult Astrologers🚩
  • Video Consultation🍃
  • Video (Kundli Milan)🍃
  • Phone (30 min)🍃
  • Do you have Questions? Ask an Astrologer now

    	 

    Putrakarak(पुत्र कारक)

    🪶🪶

     

    मातृ कारक से कम डिग्री वाले ग्रह को पुत्रकारक (Putrakarak) ग्रह कहा जाता है. इसे संतान का स्वामी ग्रह माना जाता है. इसका प्राकृतिक ग्रह गुरू है. यह पाँचवें स्थान पर आता है. यह जन्म कुण्डली में पाँचवें भाव का प्रतिनिधित्व करता है. कुण्डली का पांचवां भाव हमारी शिक्षा, संतान प्रेम संबंधों इत्यादि को भी दर्शाती है. अत: ऎसे में पुत्रकारक ग्रह की शुभता होने पर हमे इसके शुभ परिणाम मिल पाते हैं वहीं अगर यह अशुभ प्रभाव में होगा तो इस से संबंधित परेशानियां हमें झेलनी होंगी.


  • Download:Jyotishgher Android App for free dashboard
  • Consult Astrologers🚩
  • Video Consultation🍃
  • Video (Kundli Milan)🍃
  • Phone (30 min)🍃
  • Do you have Questions? Ask an Astrologer now

    	 

    Gnatikarak(ज्ञातिकारक)

    🪶🪶

     

    पुत्र कारक ग्रह के पश्चात जिस ग्रह की डिग्री कम होती है उसे ज्ञातिकारक (Gyatikarka) के नाम से जाना जाता है. इसे सम्बन्धों के स्वामी के रूप में स्थान प्राप्त है. भ्रातृ कारक की तरह इसका भी प्राकृति ग्रह मंगल है. जन्म कुण्डली का छठा भाव ज्ञातिकारक ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है. यह जीवन में आने वाले कष्ट, बीमारियों, लड़ाई झगड़ों, कानूनी कार्यवाही इत्यादि को बताता है. ज्ञातिकारक की दशा आने पर व्यक्ति के जीवन में अचानक से होने वाले घटना क्रम अधिक हो जाते हैं. इस दशा में व्यक्ति को मानसिक, आर्थिक व शारीरिक रुप से कष्ट इत्यादि झेलने पड़ जाते हैं.


  • Download:Jyotishgher Android App for free dashboard
  • Consult Astrologers🚩
  • Video Consultation🍃
  • Video (Kundli Milan)🍃
  • Phone (30 min)🍃
  • Do you have Questions? Ask an Astrologer now

    	 

    दारा कारक (Darakarak)

    🪶🪶

     

    जिस ग्रह की डिग्री सबसे कम होती है उसे दारा कारक (Darakarak) कहते हैं. इसे जीवनसाथी का स्वामी ग्रह कहा जाता है. इसका प्राकृतिक ग्रह शुक्र है. यह सातवें भाव के कारकत्वों को दर्शाता है. जन्म कुण्डली का सातवां भाव विवाह एवं संबंधों, सहभागिता में किए जाने वाले काम, विदेश यात्रा, व्यक्ति की लोगों के मध्य स्थिति इत्यादि को समझने में इस भाव का महत्वपूर्ण योगदान होता है. साथ ही जिस ग्रह को इस भाव का प्रतिनिधित्व मिलता है वह भी इस भाव से मिलने वाले फलों पर अपना प्रभाव भी डालता है.


  • Download:Jyotishgher Android App for free dashboard
  • Consult Astrologers🚩
  • Video Consultation🍃
  • Video (Kundli Milan)🍃
  • Phone (30 min)🍃
  • Do you have Questions? Ask an Astrologer now

    	 

    Karakamsa Lagna(कारकांश लग्न)

    🪶🪶

     

    कारकांश लग्न, जिसे कारकांश लग्न या आत्मकारक लग्न भी कहा जाता है, वैदिक ज्योतिष में एक महत्वपूर्ण अवधारणा है। यह नवांश चार्ट में आत्मकारक ग्रह की स्थिति से निकला है। नवांश चार्ट, जिसे D9 चार्ट के रूप में भी जाना जाता है, एक विभागीय चार्ट है जो किसी व्यक्ति के जीवन के आध्यात्मिक और वैवाहिक पहलुओं में अंतर्दृष्टि प्रदान करता है। कारकांश लग्न की गणना करने के लिए, आपको आत्मकारक ग्रह का निर्धारण करना होगा, जो आपकी जन्म कुंडली में उच्चतम अंश वाला ग्रह है। एक बार जब आप आत्मकारक ग्रह की पहचान कर लेते हैं, तो नवांश चार्ट में इसकी स्थिति का पता लगाएं। नवमांश कुंडली में आत्मकारक ग्रह जिस राशि में स्थित होता है वह कारकांश लग्न बन जाता है। कारकांश लग्न किसी व्यक्ति की आत्मा की इच्छाओं, आध्यात्मिक पथ और इस जीवनकाल में उसकी क्षमता के बारे में महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्रकट करता है। यह व्यक्ति के अस्तित्व के वास्तविक सार और उद्देश्य का प्रतिनिधित्व करता है। नवमांश चार्ट में कारकांश लग्न से घर, ग्रह और पहलू व्यक्ति के आध्यात्मिक विकास, संबंधों और समग्र जीवन के अनुभवों के बारे में अधिक जानकारी प्रदान करते हैं। कारकांश लग्न और नवमांश चार्ट में इसके संबंधित प्लेसमेंट का विश्लेषण करने से ज्योतिषियों को आत्मा की यात्रा, कर्म पैटर्न और किसी व्यक्ति के जीवन में विकास और पूर्ति के संभावित क्षेत्रों को समझने में मदद मिल सकती है। यह किसी के आध्यात्मिक पथ और आत्म-साक्षात्कार में गहरी अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए एक मूल्यवान उपकरण है।


  • Download:Jyotishgher Android App for free dashboard
  • Consult Astrologers🚩
  • Video Consultation🍃
  • Video (Kundli Milan)🍃
  • Phone (30 min)🍃
  • Do you have Questions? Ask an Astrologer now

    	 

    Upapada Lagna(उपपद लग्न)

    🪶🪶

     

    उपपद लग्न, जिसे ul के नाम से भी जाना जाता है, वैदिक ज्योतिष में एक महत्वपूर्ण अवधारणा है। यह लग्न से 12वें घर की स्थिति से प्राप्त होता है। उपपद लग्न व्यक्ति के जीवन में विवाह, साझेदारी और संबंधों की गुणवत्ता का प्रतिनिधित्व करता है गणना: उपपद लग्न का निर्धारण करने के लिए, जन्म कुंडली में लग्न (या पहले घर) से 12 घरों की गिनती करें। इस 12वें भाव में राशि और पद उपपद लग्न बनते हैं। अपवाद: यदि 12वें भाव का स्वामी 12वें भाव में ही या 12वें भाव से 7 भाव दूर स्थित है तो गिनती की प्रक्रिया फिर से 12वें भाव में चली जाएगी। ऐसे में हम 12वें भाव या 7वें भाव से 10 स्थान दूर गिनते हैं। महत्व: उपपद लग्न रिश्तों की प्रकृति, विशेषकर विवाह के विश्लेषण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह साझेदारी की गुणवत्ता, जीवनसाथी की विशेषताओं और वैवाहिक संबंधों की गतिशीलता के बारे में अंतर्दृष्टि प्रदान करता है। विवाह सूचक: किसी व्यक्ति के जीवन में विवाह की संभावना की जांच के लिए उपपद लग्न को एक महत्वपूर्ण कारक माना जाता है। उपपद लग्न की शक्ति, स्थान और पहलू, साथ ही साथ इससे जुड़े ग्रह, विवाह के समय और प्रकृति में अंतर्दृष्टि प्रदान कर सकते हैं। जीवनसाथी विश्लेषण: उपपद लग्न जीवनसाथी की विशेषताओं और गुणों के बारे में सुराग देता है। उपपद लग्न के साथ ग्रहों के पहलू और युति, साथ ही उपपद लग्न से 7 वें घर में स्थित ग्रह, जीवनसाथी के व्यक्तित्व लक्षण, रूप और व्यवहार में अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं। संबंध गतिकी: उपपद लग्न विवाह या साझेदारी में उत्पन्न होने वाली गतिशीलता और चुनौतियों पर भी प्रकाश डालता है। उपपाद लग्न के साथ पहलू और संयोजन, साथ ही उपपद लग्न से 7 वें घर की स्थिति, रिश्ते के भीतर सामंजस्य या संघर्ष की क्षमता का संकेत दे सकती है। संगतता विश्लेषण: दो व्यक्तियों के उपपद लग्न की तुलना करने से उनकी अनुकूलता और एक सामंजस्यपूर्ण साझेदारी की क्षमता के बारे में जानकारी मिल सकती है। दो लोगों के उपपद लग्न के बीच समानता या संबंध अनुकूलता का संकेत दे सकते हैं, जबकि चुनौतीपूर्ण पहलू संभावित संघर्ष या बाधाओं का सुझाव दे सकते हैं।


  • Download:Jyotishgher Android App for free dashboard
  • Consult Astrologers🚩
  • Video Consultation🍃
  • Video (Kundli Milan)🍃
  • Phone (30 min)🍃
  • Do you have Questions? Ask an Astrologer now

    Vedic Chalisha in Sanskrit | List of Chalisha

    Strotam

    Tulsi Stotra- तुलसी स्तोत्र

    Surya Stotra-सूर्य स्तोत्र

    Chandra Stotra-चन्द्र स्तोत्र

    Vedic Strotam in Sanskrit | List of Strotam

    Gemstones

    Ruby stone | माणिक रत्न

    पुखराज रत्‍न – Pukhraj Ratan

    मूंगा रत्‍न – Moonga Ratna

    Vedic Gemstone in Sanskrit | List of Gemstones

    Disclaimer(DMCA guidelines)

    Please note Vedic solutions,remedies,mantra & Planetry positions are mentioned by Ancient Sages in Veda and it is same everywhere hence no one have sole proprietorship on these.Any one free to use the content.We have compiled the contents from different Indian scripture, consisting of the Rig Veda, Sama Veda, Yajur Veda, and Atharva Veda, which codified the ideas and practices of Vedic religion and laid down the basis of classical Hinduism with the sources,books,websites and blogs so that everyone can know the vedic science. If you have any issues with the content on this website do let us write on care.jyotishgher@gmail.com.