Do you have Questions? Ask an Astrologer now

	 

नीम के फायदे

How to do🪶🪶

 

Neem Herbal Remedy and Benefit : One tree pharmacy Not only in Ayurvedic medicines, neem tree extracts have been a part of many home remedies that Indians have been following since time immemorial. We use neem to treat hair and skin issues. Neem Herbal Remedy and Benefit : Anti-fungal and anti-bacterial Neem leaves are used to treat fungal and bacterial infections. They are used to treat warts as well as chicken pox. Either the paste is applied on the affected area or the person is made to bathe in neem water. It can also treat foot fungi. Neem Herbal Remedy and Benefit : Insecticide You can keep neem soaked cotton near your windows or burn neem leaves to ward off insects. It is extremely effective and is used to fight mosquito menace. Neem Herbal Remedy and Benefit : Increases immunity Many Ayurveda experts recommend daily intake of neem capsules. Neem tea is also widely prescribed to reduce fever, especially the malaria one. Since neem tastes bitter, the tea acquires a similar taste but works magically. Neem Herbal Remedy and Benefit : Nature's toothbrush Chewing neem twigs for dental hygiene and care is an age-old Indian tradition. In Indian households, people used to brush their teeth using twigs of neem. And these days you find neem-based toothpaste to ensure good dental health. Due to its antibacterial, anti-inflammatory and antifungal properties, it keeps away all sorts of dental infections and diseases. Neem Herbal Remedy and Benefit : Strong and long hair Neem also helps in strengthening hair quality and promotes growth of hair. Neem paste is also used as a hair conditioner. Due to its antibacterial, antifungal and anti-inflammatory properties, neem is an excellent way to curb dandruff. This makes hair follicles stronger, thus encouraging hair growth too. It provides the required nourishment and conditioning to the roots, making them stronger and shinier. Neem Herbal Remedy and Benefit : Treat skin disorder There are many formulations in Ayurveda that are used to treat skin issues. It is because it has a detoxifying property. It is used to treat sczema and other skin infections. Neem Herbal Remedy and Benefit : Healer Neem can heal wounds without leaving any ugly scars. It also prevents septic infections. Neem is commonly used to heal wounds because of its antiseptic properties. Apply a little amount of neem oil onto the wounds and on scars, daily. Neem Oil contains the necessary fatty acids, which also promote wound healing and make your skin healthy. Neem Herbal Remedy and Benefit : Acne relief Neem also has anti-inflammatory property that reduces acne. The neem oil is believed to relieve skin dryness, skin itchiness and redness. It also prevents pimples and skin blemishes. Neem Herbal Remedy and Benefit This is not it. Neem is also used in organic farming. The popular neem seed cake, which is basically a neem seed residue which is left after oil extraction, is extremely beneficial for enriching the soil. It also brings down nitrogen loss and works as a nematicide. Other benefits Neem is also an excellent source of moisturizer for the skin. By applying neem oil, the fatty acids and vitamins in it moisturize and condition your skin, making it clearer and youthful. The vitamin E in neem oil repairs the damaged skin and also limits the effect of environment changes that can lead to skin damage.


	 
 

नीम के फायदे मुंहासों से लेकर कैंसर तक का खात्‍मा करता है नीम का ऐसा प्रयोग क्या कहेंगे जब आपको कई स्वास्थ्य समस्याओं के लिए एक "प्राकृतिक समाधान" मिले? शायद आपको आश्‍चर्य हो? होना भी चाहिए। खैर, यह काम नीम के अलावा कोई भी नहीं कर सकता है। आयुर्वेद में इसे 'सर्व रोग निवारिणी' कहा जाता है। चाहे त्‍वचा की समस्‍या हो या पाचन की गड़बड़ी। हर रोगों से नीम आसानी से छुटकारा दिलाता है। आयुर्वेद के अनुसार, नीम स्वाद में कड़वा है और शक्ति में ठंडा है और शरीर में पित्‍त और कफ दोषों को संतुलित करने में मदद करता है। नीम अपनी ठंडी प्रकृति के कारण त्वचा को एक सुखद उपचार प्रदान करता है। नीम का कड़वा स्वाद यकृत के कार्य में सुधार करता है और यकृत में मौजूद विषाक्‍त को हटा देता है। आज हम इस लेख में जानेंगे कि नीम किस प्रकार से एक मुंहासे से लेकर कैंसर तक को कैसे खत्‍म कर सकता है। * मुंहासे का उपचार यदि आप मुंहासे से पीड़ित हैं तो यह आपके लिए है। नीम की जीवाणुरोधी गुण दोबारा मुंहासे नहीं होने दते हैं। जबकि इसकी एंटी-ऑक्सीडेंट गुणवत्ता मुंहासे के दाग और निशान को हटाने में मदद करती है। जिससे त्वचा हमेशा ताजा और साफ दिखती है। कैसे इस्तेमाल करे ? 1. नीम के पत्तों के मुट्ठी भर लें और उसे पानी से धो लें। 2. 4 भाग पानी एक भाग पत्तों को लें। पत्तियों को तब तक उबालें जब तक कि पानी हरा न हो जाए। 3. जब पानी थोड़ा ठंडा हो जाए तो इससे चेहरे को धोने में उपयोग करें। 4. वैकल्पिक रूप से, आप कुछ नीम के पत्तों को पीस कर मुंहासों पर लगा सकते हैं। सूखने के बाद इसे ठंडे पानी से धो लें। 5. दिन में दो बार नीम का पानी या नीम पेस्ट का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। * कैंसर के खतरे को रोके नीम के पत्तों में मौजूद कुछ यौगिक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में सुधार करके कैंसर उपचार में सहायता के लिए जाने जाते हैं, मुक्त कणों को समाप्त करते हैं और कोशिका विभाजन कर सूजन को कम करते हैं। इसके यौगिक कीमोथेरेपी की प्रभावशीलता में वृद्धि करते हैं। कैसे इस्तेमाल करे ? 1. 4 से 5 नीम के पत्तों को रोजाना सुबह खाली पेट चबाकर खाएं। 2. खाने से पहले उसे पानी से अच्‍छी तरह से धो लें। 3. यह आपको कैंसर के अलावा पेट के कई रोगों से बचाएगा। * दांत और मसूड़ों की रक्षा करता है नीम की दातुन करने से दांतों और मसूड़ों की सभी छोटी-मोटी समस्‍याएं खत्‍म हो जाती हैं। नीम में एंटीमाइक्रोबायल गुण होते हैं जो बुरी सांस, दांतों का पीलापन, मुंह के अल्सर और पायरिया जैसे रोगों को खत्‍म कर देते हैं। इसे अपने दैनिक मौखिक देखभाल व्यवस्था का एक हिस्सा बना सकते हैं। कैसे इस्तेमाल करे ? 1. एक मध्यम आकार की साफ नीम की टहनी ले लो। 2. एक तरफ टूथ-ब्रश की तरह बनाने लें। 3. अब इसे प्राकृतिक टूथब्रश के रूप में उपयोग करें और सादे पानी के साथ कुल्‍ला करें। 4. यदि आप दातून के स्‍वाद को पसंद नहीं करते हैं तो आप उस पर टूथपेस्‍ट लगाकर दांतों को साफ कर सकते हैं।



Disclaimer(DMCA guidelines)

Please note Vedic solutions,remedies,mantra & Planetry positions are mentioned by Ancient Sages in Veda and it is same everywhere hence no one have sole proprietorship on these.Any one free to use the content.We have compiled the contents from different Indian scripture, consisting of the Rig Veda, Sama Veda, Yajur Veda, and Atharva Veda, which codified the ideas and practices of Vedic religion and laid down the basis of classical Hinduism with the sources,books,websites and blogs so that everyone can know the vedic science. If you have any issues with the content on this website do let us write on care.jyotishgher@gmail.com.

Explore Chalisha

FAQ