Uppad lagna In Astrology

Jamini astrology

	 

Upapada Lagna(उपपद लग्न)

🪶🪶

 

उपपद लग्न, जिसे ul के नाम से भी जाना जाता है, वैदिक ज्योतिष में एक महत्वपूर्ण अवधारणा है। यह लग्न से 12वें घर की स्थिति से प्राप्त होता है। उपपद लग्न व्यक्ति के जीवन में विवाह, साझेदारी और संबंधों की गुणवत्ता का प्रतिनिधित्व करता है गणना: उपपद लग्न का निर्धारण करने के लिए, जन्म कुंडली में लग्न (या पहले घर) से 12 घरों की गिनती करें। इस 12वें भाव में राशि और पद उपपद लग्न बनते हैं। अपवाद: यदि 12वें भाव का स्वामी 12वें भाव में ही या 12वें भाव से 7 भाव दूर स्थित है तो गिनती की प्रक्रिया फिर से 12वें भाव में चली जाएगी। ऐसे में हम 12वें भाव या 7वें भाव से 10 स्थान दूर गिनते हैं। महत्व: उपपद लग्न रिश्तों की प्रकृति, विशेषकर विवाह के विश्लेषण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह साझेदारी की गुणवत्ता, जीवनसाथी की विशेषताओं और वैवाहिक संबंधों की गतिशीलता के बारे में अंतर्दृष्टि प्रदान करता है। विवाह सूचक: किसी व्यक्ति के जीवन में विवाह की संभावना की जांच के लिए उपपद लग्न को एक महत्वपूर्ण कारक माना जाता है। उपपद लग्न की शक्ति, स्थान और पहलू, साथ ही साथ इससे जुड़े ग्रह, विवाह के समय और प्रकृति में अंतर्दृष्टि प्रदान कर सकते हैं। जीवनसाथी विश्लेषण: उपपद लग्न जीवनसाथी की विशेषताओं और गुणों के बारे में सुराग देता है। उपपद लग्न के साथ ग्रहों के पहलू और युति, साथ ही उपपद लग्न से 7 वें घर में स्थित ग्रह, जीवनसाथी के व्यक्तित्व लक्षण, रूप और व्यवहार में अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं। संबंध गतिकी: उपपद लग्न विवाह या साझेदारी में उत्पन्न होने वाली गतिशीलता और चुनौतियों पर भी प्रकाश डालता है। उपपाद लग्न के साथ पहलू और संयोजन, साथ ही उपपद लग्न से 7 वें घर की स्थिति, रिश्ते के भीतर सामंजस्य या संघर्ष की क्षमता का संकेत दे सकती है। संगतता विश्लेषण: दो व्यक्तियों के उपपद लग्न की तुलना करने से उनकी अनुकूलता और एक सामंजस्यपूर्ण साझेदारी की क्षमता के बारे में जानकारी मिल सकती है। दो लोगों के उपपद लग्न के बीच समानता या संबंध अनुकूलता का संकेत दे सकते हैं, जबकि चुनौतीपूर्ण पहलू संभावित संघर्ष या बाधाओं का सुझाव दे सकते हैं।


  • Download:Jyotishgher Android App for free dashboard
  • Consult Astrologers🚩
  • Video Consultation🍃
  • Video (Kundli Milan)🍃
  • Phone (30 min)🍃
  • Planets:As Upapada Lagna(उपपद लग्न)🪶🪶

     

    उपपद लग्न के रूप में सूर्य: जब सूर्य उपपद लग्न बन जाता है, तो यह सुझाव देता है कि जीवनसाथी या साथी के पास मजबूत नेतृत्व गुण, व्यक्तित्व और अधिकार की भावना हो सकती है। वे मान्यता प्राप्त कर सकते हैं और उनके संबंधित क्षेत्र में एक प्रमुख भूमिका हो सकती है। उपपाद लग्न के रूप में चंद्रमा: जब चंद्रमा उपपद लग्न बन जाता है, तो यह इंगित करता है कि जीवनसाथी या साथी का पोषण और देखभाल करने वाला स्वभाव हो सकता है। भावनात्मक अनुकूलता और गहरा भावनात्मक संबंध रिश्ते में महत्वपूर्ण कारक हो सकते हैं। उनके पास परिवार की एक मजबूत भावना हो सकती है और वे भावनात्मक सुरक्षा को प्राथमिकता दे सकते हैं। उपपद लग्न के रूप में मंगल: जब मंगल उपपद लग्न बन जाता है, तो यह सुझाव देता है कि जीवनसाथी या साथी मुखर, महत्वाकांक्षी और ऊर्जावान हो सकता है। वे गतिशील और स्वतंत्र व्यक्ति हो सकते हैं जो अपने रिश्तों में वैयक्तिकता और मुखरता को महत्व देते हैं। उपपद लग्न के रूप में बुध: जब बुध उपपद लग्न बन जाता है, तो यह इंगित करता है कि जीवनसाथी या साथी के पास संचार कौशल, बौद्धिक खोज और बहुमुखी प्रतिभा हो सकती है। वे रिश्तों में मानसिक उत्तेजना और बौद्धिक अनुकूलता को महत्व दे सकते हैं। उपपाद लग्न के रूप में बृहस्पति: जब बृहस्पति उपपद लग्न बन जाता है, तो यह सुझाव देता है कि जीवनसाथी या साथी के पास दार्शनिक दृष्टिकोण, ज्ञान और नैतिक मूल्य हो सकते हैं। वे आध्यात्मिक विकास की तलाश कर सकते हैं और अपने ज्ञान और मार्गदर्शन के माध्यम से रिश्ते में योगदान दे सकते हैं। शुक्र उपपद लग्न के रूप में: जब शुक्र उपपद लग्न बन जाता है, तो यह इंगित करता है कि जीवनसाथी या साथी में आकर्षण, सौंदर्य और सद्भाव और सौंदर्य के लिए प्रेम हो सकता है। वे एक सामंजस्यपूर्ण और रोमांटिक रिश्ते की तलाश कर सकते हैं और प्यार, साहचर्य और कामुकता को महत्व दे सकते हैं। उपपद लग्न के रूप में शनि: जब शनि उपपद लग्न बन जाता है, तो यह बताता है कि जीवनसाथी या साथी जिम्मेदार, अनुशासित और व्यावहारिक हो सकते हैं। वे रिश्तों में स्थिरता और लंबे समय तक चलने वाली प्रतिबद्धता की तलाश कर सकते हैं और साझेदारी के लिए परिपक्व और गंभीर दृष्टिकोण रख सकते हैं। उपपद लग्न के रूप में राहु: जब राहु उपपद लग्न बन जाता है, तो यह इंगित करता है कि जीवनसाथी या साथी में अद्वितीय गुण, अपरंपरागत सोच और सांसारिक अनुभवों की इच्छा हो सकती है। रिश्ते में उत्साह, अप्रत्याशितता और विकास का तत्व हो सकता है। उपपद लग्न के रूप में केतु: जब केतु उपपद लग्न बन जाता है, तो यह सुझाव देता है कि जीवनसाथी या साथी में आध्यात्मिक या रहस्यमय गुण हो सकते हैं। उनके पास सहज और अनासक्त प्रकृति हो सकती है और रिश्ते के माध्यम से आध्यात्मिक विकास और मुक्ति की तलाश कर सकते हैं।


    Upapada Lagna(उपपद लग्न) different houses🪶🪶

    Do you have Questions? Ask an Astrologer now

     

    Upapada Lagna in the 1st house: This suggests that the spouse or partner may have a strong influence on the individual's personality and physical appearance. The relationship may be a central focus in their life, and they may experience a strong sense of identity through their partnership. Upapada Lagna in the 2nd house: This placement indicates that the spouse or partner may have a significant impact on the individual's finances, family values, and material possessions. The relationship may involve shared resources and a focus on financial stability. Upapada Lagna in the 3rd house: This suggests that the spouse or partner may play a role in the individual's communication, siblings, and short-distance travel. The relationship may involve frequent communication, shared interests, and a supportive bond with siblings. Upapada Lagna in the 4th house: This placement indicates that the spouse or partner may have an influence on the individual's home, family, and emotional security. The relationship may involve a strong connection to ancestral roots, a nurturing environment, and a focus on building a harmonious domestic life. Upapada Lagna in the 5th house: This suggests that the spouse or partner may have a significant impact on the individual's creativity, romance, and children. The relationship may involve shared interests in artistic pursuits, a playful and joyful connection, and a focus on nurturing and raising children. Upapada Lagna in the 6th house: This placement indicates that the spouse or partner may be involved in the individual's work, service, and health matters. The relationship may involve mutual support in overcoming challenges, a focus on service-oriented activities, and attention to maintaining good health. Upapada Lagna in the 7th house: This is considered a favorable placement for marriage and partnerships. It suggests that the spouse or partner may play a prominent role in the individual's life. The relationship may involve a strong focus on companionship, balance, and cooperation. Upapada Lagna in the 8th house: This suggests that the spouse or partner may have a transformative influence on the individual's life. The relationship may involve deep emotional connections, shared resources, and a focus on spiritual and metaphysical matters. Upapada Lagna in the 9th house: This placement indicates that the spouse or partner may have a significant impact on the individual's beliefs, higher education, and spiritual growth. The relationship may involve shared philosophical and spiritual pursuits, a focus on expanding knowledge, and a connection to foreign cultures or travel. Upapada Lagna in the 10th house: This suggests that the spouse or partner may have an influence on the individual's career, public image, and social status. The relationship may involve shared ambitions, a focus on professional success, and a strong presence in the public eye. Upapada Lagna in the 11th house: This placement indicates that the spouse or partner may be involved in the individual's social networks, friendships, and goals. The relationship may involve shared aspirations, a focus on networking and group activities, and mutual support in achieving goals. Upapada Lagna in the 12th house: This suggests that the spouse or partner may have a spiritual or hidden influence on the individual's life.


    Disclaimer(DMCA guidelines)

    Please note Vedic solutions,remedies,mantra & Planetry positions are mentioned by Ancient Sages in Veda and it is same everywhere hence no one have sole proprietorship on these.Any one free to use the content.We have compiled the contents from different Indian scripture, consisting of the Rig Veda, Sama Veda, Yajur Veda, and Atharva Veda, which codified the ideas and practices of Vedic religion and laid down the basis of classical Hinduism with the sources,books,websites and blogs so that everyone can know the vedic science. If you have any issues with the content on this website do let us write on care.jyotishgher@gmail.com.

    Vedic Chalisha in Sanskrit | List of Chalisha

    Strotam

    Tulsi Stotra- तुलसी स्तोत्र

    Surya Stotra-सूर्य स्तोत्र

    Chandra Stotra-चन्द्र स्तोत्र

    Vedic Strotam in Sanskrit | List of Strotam

    Gemstones

    Ruby stone | माणिक रत्न

    पुखराज रत्‍न – Pukhraj Ratan

    मूंगा रत्‍न – Moonga Ratna

    Vedic Gemstone in Sanskrit | List of Gemstones