Do you have Questions? Ask an Astrologer now

	 

कान के दर्द में फायदेमंद है लहसुन

How to do🪶🪶

 

* How to Make Garlic Juice: - Making garlic juice is easy. For this, first peel the 10-12 buds of garlic. Take these buds well or grind them. Add 10-12 drops of water to it while grinding or cropping. Now filter it with some cloth or fine filter. Garlic juice is ready. This juice has antibacterial properties, so it is beneficial in many body problems. Let's tell you that you can use garlic juice in the ear problems. * Problem of pain in ear: - The problem of pain in the ear often occurs in children. Apart from this, sometimes due to some reasons, the ears of the elderly may also be painful. On pain, add 2 drops of garlic juice to the ear. This gives relief in pain immediately. However, if your ear flows or there is a wound inside, then ask the doctor or Ayurveda expert before using this juice. As you put garlic juice in the ear, you feel a little warm. After this gradually relief from pain. * Swelling in the ear: - If your ear has swelling, then in this situation, garlic juice can be used in the ear. It has less ear swelling. Also, redness in the ear is less because of swelling. If there is any kind of ear irritation due to inflammation, then due to garlic juice, there is a decrease. * Itching in the ear: - The problem of itching in the ear is also common. Often the problem of scabies due to the wax being accumulated in the ear or due to inflammation. When it is itching in the ears, people add it to the ear in the ear and scratch it in the ear, causing it to be prone to infection. But it can be rid of ear scabies by putting garlic juice in the ear.


	 
 

कान के दर्द में फायदेमंद है लहसुन लहसुन एक बेहद फायदेमंद हर्ब है। हमारे यहां लहसुन का प्रयोग खान-पान में शामिल है लेकिन क्या आप जानते हैं आयुर्वेद के अनुसार लहसुन में कई औषधीय गुण भी होते हैं। जी हां, ऐसे कई रोग हैं, जिनमें लहसुन का प्रयोग दवाओं से भी ज्यादा तेजी से फायदेमंद होता है। लहसुन में मौजूद एलिसिन तत्व कमाल का एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो शरीर को कई परेशानियों से बचाता है। इसके अलावा इसमें विटामिन सी, विटामिन बी-6, फाइबर, पोटैशियम, कैल्शियम आदि तत्व भी मौजूद होते हैं। कान की कई समस्याओं में लहसुन के रस के प्रयोग द्वारा लाभ पाया जा सकता है। आइए आपको बताते हैं कैसे बनाएं लहसुन का रस और किन परेशानियों में लहसुन आपके काम आता है। * कैसे बनाएं लहसुन का रस:- लहसुन का रस बनाना आसान है। इसके लिए सबसे पहले लहसुन की 10-12 कलियों को छीलकर रख लें। इन कलियों को अच्छी तरह पीस या कूट लें। पीसते या कूटते समय इसमें 10-12 बूंद पानी मिला लें। अब इसे किसी कपड़े या महीन छन्नी से छान या निचोड़ लें। लहसुन का रस तैयार है। इस रस में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं इसलिए ये शरीर की कई समस्याओं में फायदेमंद होता है। आइए आपको बताते हैं कि लहसुन के रस का प्रयोग आप कान की किन समस्याओं में कर सकते हैं। * कान में दर्द की समस्या:- कान में दर्द की समस्या अक्सर बच्चों में होती है। इसके अलावा कई बार किन्हीं कारणों से बड़ों के कान में भी दर्द हो सकता है। दर्द होने पर कान में 2 बूंद लहसुन का रस डालें। इससे दर्द में तुरंत राहत मिलती है। हालांकि अगर आपका कान बहता है या अंदर कोई घाव है, तो इस रस का प्रयोग करने से पहले चिकित्सक या आयुर्वेद विशेषज्ञ से पूछ लें। कान में लहसुन का रस डालते ही आपको हल्का गर्म एहसास होता है। इसके बाद धीरे धीरे दर्द से राहत मिलती है। अगर किसी को कई दिनों से कान में दर्द की समस्या है, तो रात को सोने से पहले लहसुन का रस डाल सकता है। * कान में संक्रमण:- कान का इंफेक्शन भी काफी आम है। अक्सर गंदगी के कारण या ध्यान न देने से कान का इंफेक्शन हो जाता है। ऐसे में लहसुन के रस का प्रयोग फायदेमंद हो सकता है। लहसुन में एंटी-वायरल और एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं। इसलिए यदि आपके कान में जर्म्स के कारण दर्द हो रहा है, तो लहसुन में मौजूद ये गुण आपके कान में राहत पहुंचाते हैं। * कान में सूजन:- यदि आपके कान में सूजन है, तो ऐसी स्थिति में भी कान में लहसुन के रस का उपयोग किया जा सकता है। इससे कान की सूजन कम होती है। साथ ही सूजन के कारण कान में आई लालिमा भी कम होती है। यदि सूजन के कारण किसी प्रकार की कान में जलन हो, तो उससे भी लहसुन के रस के कारण कमी आती है। * कान में खुजली:- कान में खुजली की समस्या भी आम है। अक्सर कान में वैक्स जम जाने के कारण या सूजन आ जाने के कारण खुजली की समस्या हो जाती है। कान में खुजली होने पर लोग कान में मचिस की तीली आदि डालकर खुजलाते हैं, जिससे संक्रमण का खतरा हो सकता है। मगर लहसुन के रस को कान में डालने से कान की खुजली से छुटकारा पाया जा सकता है।



Disclaimer(DMCA guidelines)

Please note Vedic solutions,remedies,mantra & Planetry positions are mentioned by Ancient Sages in Veda and it is same everywhere hence no one have sole proprietorship on these.Any one free to use the content.We have compiled the contents from different Indian scripture, consisting of the Rig Veda, Sama Veda, Yajur Veda, and Atharva Veda, which codified the ideas and practices of Vedic religion and laid down the basis of classical Hinduism with the sources,books,websites and blogs so that everyone can know the vedic science. If you have any issues with the content on this website do let us write on care.jyotishgher@gmail.com.

Explore Chalisha

FAQ